ईर्ष्या और जलन दोनों में आखिर अंतर क्या है ?

ईर्ष्या और जलन दोनों में आखिर अंतर क्या है ?

ज्यादातर लोगो को यह लगता होगा की ईर्ष्या और जलन (Jealousy) एक ही है। दरसल दोनों अलग है।
ईर्ष्या – ये तब होती है जब आपके पास वह चीज नहीं है जो दुसरो के पास है तब जो प्रतिक्रिया करते है वह ईर्ष्या है।
जलन (Jealousy) – यह प्रतिक्रिया आप तब करते है जब आपके पास चीज तो होती है पर दूसरा कोई उसमे प्रतिक्रिया करता हो और आपको उस चीज को खोने का डर सत्ता रहा हो। अक्सर पुरुष और महिला के रिश्तो में ऐसा होता है।

ईर्ष्या –

  • मान लीजिए आपका पडोशी आपसे ज्यादा पैसे कमा रहा है उसने बढ़िया महँगी कार खरीद ली और आपके पास वही पुरानी कार है तब आपके मन में उसके प्रति जो प्रतिक्रिया होती है वह ईर्ष्या होती है।
  • ये अक्सर महिलाओ में होता है कही प्रसंग या पार्टी में आपकी पडोशन या सहेली आपसे महँगी साड़ी या कपडे पहनकर आयी और आप उससे सस्ते कपडे पहने है सब उसकी ही तारीफ कर रहे है तब आपके मन में उसके प्रति जो विचार आता है वह जलन नहीं पर ईर्ष्या होती है। क्योकि आपके पास महंगे कपडे नहीं है जो उसके पास है।
  • ये अक्सर स्टूडेंट के अंदर होता है कोई टॉपर बनने से थोड़े Percentage के लिए रह जाता है और वो टॉपर होनेवाले स्टूडेंट के प्रति जो मन में प्रतिक्रिया होती है वह ईर्ष्या होती है। क्योकि उसके पास Percentage टॉपर से कम आए है।
  • हालांकि ईर्ष्या आना वह आपकी सोच पर निर्भर करता है आप उस व्यक्ति के प्रति कैसा मन में सोचते है उसपर निर्भर है। इंसान के अंदर ईर्ष्या तब ही प्रकट होती है जब वह उसकी तुलना दूसरे लोगो से करता है। दुनिया में ज्यादातर लोग सबसे ज्यादा दुखी अपने आसपास के लोग और उनके समाज को देखकर उनके साथ अपने जीवन की तुलना करके होते है।

Comments